top of page

JP Pandey’s travelogue ‘Pagdandi Mein Pahad’ is the story of high peaks

Book – ‘Pagdandi Mein Pahad’ (पगडंडी में पहाड़) Writer- Jai Prakash Pandey Publisher – National Book Trust

Edition year- 2022


Travel stories have always been thrilling and if investigative stories are also included in it, then the pleasure increases manifold. Science writer Devendra Mewari’s book ‘Peeche Chhota Pahad’ published by National Book Trust ie National Book Trust (NBT) has become very popular. In this series of travel stories, another book has been published from NBT – ‘Pagdandi Mein Pahad’. Jai Prakash Pandey is the author of this book.


The book ‘Pagdandi Mein Pahad’ is divided into 18 sections. Each section of this contains complete information about one or the other popular place of the Shivalik mountain range.

In the first section of the book, the author reaches Mussoorie, the ‘queen of mountains’ and this is also the title of this section. The description of the unique beauty of Mussoorie starts from the beginning of this section. Readers, realizing the beauty of Mussoorie as well as the cultural heritage there, reach the famous Library Chowk, enjoying voting in the ancient Shiva temple, Mussoorie Lake. When you will visit these streets of Mussoorie, you will know the glory of a small village developing into a famous tourist destination. Which was the first road, which was the first hotel, in which hotel, which dignitaries stayed and when, all these small details have been preserved so neatly that the reader can feel the fragrance of Mussoorie without visiting it?


Turning the pages of the book, it is revealed that the author has not come to Mussoorie as a tourist but has been posted as the principal of the famous Oakgrove School in Mussoorie. This school was established in 1888 with the aim of providing education to the children of British officers. Later this school developed as an education center for the children of railway officers and employees. It is the country’s largest residential school in the government sector.

It is here that it is known that the author is an officer of the Indian Railway Personal Service (IRPS). The officers of this service are posted as the principal of this school.


JP Pandey explains that in the 19th century, almost every work by the British was mainly conducted with the aim of making profit. For the first time, the East India Company established this educational institution with a fund of Rs 2,00,000.


A view of Mussoorie is described in the book as follows – “The road from Kulri Bazar to Library Chowk is known as Camel Back Road, where many graveyards of the British era are situated. The view of the sunset is worth seeing from here. In the evening of winter, a deep red line on the horizon spreads all over the sky, which is known as the winter line. It is said that after Switzerland in the world, the mesmerizing view of Winter Line can be seen only in Mussoorie. The whole sky is surrounded by the circumference of a big ball of fire. With its bright red colors, the shade of white floating clouds on the blue background is made on sight.


After this, the rest of the sections of the book are named after the main places of this mountainous region like Jharipani Fall, Sangam Fall, Pari Tibba, Vinog Top, Jabarkhet Nature Reserve, Surkanda and Dhanaulti, Sahastradhara, Kumaon Darshan, Chardham Yatra etc.

To acquaint the readers with the history and beauty of these places, the author has used a wonderful style. In each section, he along with the children and staff of his school goes on a tour of a spot and like a commentator gives detailed information about the establishment of that place, its development, its history and the buildings, residents etc.


If a person wants to visit these places, then there is no need to collect information from Wikipedia or any other source. The in-depth and authoritative information about these places that will be found in this book is rare elsewhere.


I would like to specially mention one chapter of this book ‘Jabarkhet Nature Reserve’. This is a protected private forest area of ​​Mussoorie. Prior permission has to be taken for entry here and tickets too. The writers along with their students reach there without prior permission and the security personnel deny them entry. But when the manager comes to know that the children have come from the famous ‘Oakgrove’ school, he not only gives permission but also provides a guide. Here the author tells that there is a ‘furlough home’ for ex-servicemen in the Landour cantonment of this area, in which British soldiers who could not go back to Europe used to come on holidays.


The first permanent building in Mussoorie, ‘Malinger House’, built by Captain Young in 1826, was the summer residence for his family. Later it was taken over by the army and converted into a hotel in the early 20th century. During World War II, this hotel was used for soldiers. The entire book is full of such historical and interesting information which along with entertaining the readers also enriches their knowledge. The language of the book is simple, easy and the style is flowing and the information about various places has been given in a very exciting style, due to which the reader keeps on reading one section after another.


Along with major tourist places, the famous ‘Chardham Yatra’, ‘Hemkund Sahib’ and ‘Valley of Flowers’ have also been given attractive information in the last sections of the book. Gangotri is described in the book as follows – “The sight of Gangotri was unforgettable. Maa Ganga descends from the Gangotri Glacier, whose mere sight washes away all sins. I was extremely thrilled to be standing at his birth place. The raging waves of Maa Ganga, the gushing drops of the water stream, the mountain range laden with tall pines on the other side, the snow-clad belt shining with the rays of the serene aliphatic sun in the distance, the apple trees, the divine temples and the sprawling ghats of this holy place. Were putting four moons in elegance. Traveling about two and a half thousand kilometers, Mother Ganga provides fertile power to the area of ​​lakhs of kilometers. Paying obeisance to Mother Ganga, the lifeline of crores of people, I spent hours sitting in solitude on a bench lying on the bank of the ghat, uniting with the Supreme Father in the form of a natural scene.


Uttarakhand is mainly divided into two parts. A detailed description of the history of this place has been given in the book, so that the readers will be able to get a complete introduction to this area. A description of Kumaun is as follows in the book – “From the seventh century to the eleventh century, the Katpuri rulers ruled here. Vasudev Katpuri founded this dynasty and Kartikeyapura (now Baijnath) was the capital of this dynasty. At the height of its glory, this dynasty ruled from Nepal to Afghanistan. Brahmadev Mandi was established by a Katpuri ruler named Brahmadev in Kanchanpur district of Nepal. This dynasty disintegrated in the 12th century and the Chand rulers ruled the region. In 1581, a king named Rupchandra re-established the rule over the entire Kumaun region. Eight different dynasties ruled this region in the 13th-14th centuries. The Chand kings made Champawat their capital and Baj Bahadur became the most influential king of this dynasty.


Footpaths touch, tickle and taste a mysterious bliss to the soft fibers of the mind, from which words automatically start connecting and create heavenly literature. In the book, the author has also given a detailed description of the literary heritage of Uttarakhand. A hallmark is presented – “Early morning Kausani is at the peak of its glory. The soft blowing wind that wakes up the creepers of lazy trees, the touch of the ever-dry rays of the day and the sight of the nearby and clearly visible snow peak makes a person lose his senses. The peaks of Nag Parvat are clearly visible from here. After this we got ready and went to see the Pant Museum. The darshan of the birth place of Sumitranandan Pant, the gentle poet of nature, was no less than a place of pilgrimage for me. Many handwritten letters, photographs and manuscripts of Pant ji are safe here. Many of his pictures with Harivansh Rai Bachchan are the center of attraction. The depiction of Kausani, Almora and the beauty of nature by Sumitranandan Pant is rare elsewhere. My mind involuntarily started humming a composition of Pant ji –

छोड़ द्रुमों की मृदु छाया तोड़ प्रकृति से भी माया बाले! तेरे बाल-जाल में कैसे उलझा दूँ लोचन?

भूल अभी से इस जग को ! (soft shadow of abandoned drums breaking nature’s love Bale! How can I get Lochan entangled in your cobwebs? From this time on, forget this world!)


For a person living in the plains, having such a deep and detailed knowledge about the mountains is not only miraculous, it is also a reflection of the writer’s talent and hard work. In this book, a trinity of travelogue, investigative journalism and storytelling is visible, in the depth of which the reader goes on drowning. Due to its uniqueness, the subject matter of this book is not only useful for the tourists; it will prove to be very useful for the students, especially the research scholars. Due to its uniqueness, excellence and usefulness, the book is not only readable but also collectable.


पगडंडी में पहाड़ (यात्रा वृतांत)


“पगडंडी में पहाड़” एक यात्रा वृतांत है जिसमें उत्तराखंड के सुरम्य पर्वतीय अंचलों, पहाड़ों, झरने, उछलते कूदते नदी नाले, वहां के सीधे साधे लोगों की कहानी है । हिमालय प्रारम्भ से ही मानव सभ्यता एवं संस्कृति का उद्गगम रहा है । मानव के मान अभियान एवम दर्प को चूर्ण करने वाला हिमालय प्रकृति की श्रेष्ठतम कृति है । हिमालय देखने में जितना विशाल है यह उतना ही शीलवान, सुकोमल, सुंदर एवम मानव के दिलों को सबसे ज्यादा लुभाने वाला है । इसने मानवीय सभ्यताओं को विकसित करने के साथ उसके मनोभावों को जागृत करने का सबसे बड़ा उपक्रम रहा है । हिमालय की वादियों का एक-एक पत्थर, चट्टान बोलता है । चीड़ देवदार के पेड़ों की प्रत्येक पत्ती शरारत करती है और इसकी हरियाली आपमें प्राण डाल देती है । झरने गीत गाते है, हवाएं संगीत देती है, पुष्प मुस्कराते है और विस्तृत फैली वादियाँ बाहें फैलाये सदियों से न जाने किसका इंतजार कर रही है । इन पर्वतों की कंदराओं में तो जीवन बिताया जा सकता है । न जाने कितनी सदियों का साक्षी ये कंकड़ पत्थर हमसें बात करना चाहते है । आवश्यकता है कि जीवन की भागदौड़ से कुछ पल चुराकर इनके साथ गुजारा जाए, इनसे बात की जाए ।


“पगडंडी में पहाड़” पुस्तक में लेखक इन्हीं पगडंडियों में वन-वन घुमा है गाँवों में रुका हैं और इसकी ताजगी को महसूस किया हैं | जहाँ एक ओर वह बुलंद चोटियों से प्रभावित हुआ है वही छोटे-छोटे ककड़ों पत्थरों से प्यार किया है । पुस्तक में इन पगडंडियों से चलते आप उत्तराखंड की सुंदरता के साथ साथ वहां के लोगों के साथ लोक संस्कृति से भी परिचित होते है । पहाड़ों की रानी मसूरी से लेकर नागटिब्बा, मुनस्यारी और फूलों की घाटी तक की दुनिया एक नई दुनिया है जिसे जानकर आप इसमें डूबे बिना नही रह सकते । गढ़वाल और कुमायूं के इतिहास से लेकर भूगोल से सम्पूर्ण परिचय ही नही होता वरन किताब के माध्यम से आप उत्तराखंड में और उत्तराखंड आपमें रच-बस जाता है । पुस्तक में कुल 19 अध्याय हैं जो इस प्रकार हैं |


1- पहाड़ों की रानी मसूरी

2- झड़ीपानी फाल

3- संगम फाल

4- मौसी फाल

5- शिखर फाल एवम ओल्ड राजपुरा रोड

6- गिलोगी पॉवर हाउस और भट्टा फाल

7- परी टिब्बा

8- विनोग नेचर रिसोर्ट

9- जबरखेत नेचर रिजर्व

10- मसूरी में एक दिन- नाग मंदिर से बुद्ध मंदिर तक

11- भदराज मंदिर

12- मसूरी के पार खट्टा पानी---- लेदुर, कोल्टी गाँव तक

13- सरकुंडा एवम धनौल्टी

14- सहस्त्र धारा

15- नाग टिब्बा

16- कुमायूं दर्शन

17- चार धाम यात्रा

18- हेमकुंड साहिब एवम फूलों की घाटी

19- बर्फ का शहर मुन्सियारी – उत्तराखंड का कश्मीर



मसूरी का एक दृश्य पुस्तक में इस प्रकार उद्दृत हैं – “कुलरी बाजार से लाइब्रेरी चौक तक का रोड कैमल बैक रोड के नाम से जाना जाता है यहाँ पर अंग्रेजों के समय के अनेक ग्रेवयार्ड स्थित है | यहाँ से सूर्यास्त का नज़ारा देखने लायक होता है | जाड़ों की शाम के समय क्षितिज पर लाल रंग की गहरी रेखा पूरे आसमान पर फ़ैल जाती है | जिसे विंटर लाइन के नाम से जानते हैं | कहा जाता है कि विश्व में स्विट्ज़रलैंड के बाद मंसूरी में ही विंटर लाइन का मनमोहक नज़ारा देखा जा सकता है | पूरा आसमान आग के एक बड़े गोले की परिधि से घिर जाता है | जिसके चटख लाल रंगों के साथ नीले बैकग्राउंड पर सफेद तैरते बादलों की छटा देखते ही बनती है|”


हिमालय के उत्तुंग शिखर धर्म और आध्यात्म की उद्गम स्थल रहे है | प्रकृति के मनमोहक नजरों में हमारे पूर्वजों ने मंत्रों एवं ऋचाओं की रचना की हैं | चार धाम से पावन उत्तराखंड की धरती को देवभूमि भी कहा जाता हैं | सुरकंडा देवी शिखर का एक दृश्य पुस्तक से उद्दृत हैं – “कद्दुखाल तक टैक्सी से पहुँचने के बाद लगभग 3 किलोमीटर की चढ़ाई पैदल तय करनी होती है | दस हजार फीट की ऊंचाई पर स्थित यह मंदिर इस क्षेत्र की सबसे ऊँची चोटी पर स्थित है | ओक और चीड़ के पेड़ों के बीच बने कच्चे रास्तों पर चढ़ता मैं जब थक गया तो रास्ते में एक दुकान पर बैठ गया | दुकान तो क्या थी, जमीन पर ही बोरी बिछाकर एक पहाड़ी लड़का बुरांस का ताजा स्वादिष्ट जूस बेच रहा था | जिसे पीकर तनमन में तरोताजगी आ गयी | मंदिर शिखर पर पहुँच कर तो मन-मष्तिष्क एक विस्मयकारी दुनिया की खूबसूरती में डूब गया | नंदा देवी की बर्फ से ढकी विशाल चोटियाँ सामने थी | बादलों के अनेक समूह इन चोटियों पर अठखेलियाँ कर रहे थे | यद्यपि हिमाचल और कश्मीर में मैंने बर्फ के बहुत से पहाड़ देखे है किन्तु सुरकंडा देवी चोटी से हिमालय का अदभुद दृश्य सबसे विस्मृत करने वाला है | ऊँची विस्तृत पर्वत श्रंखला पर बर्फ की चादर फैलाकर नीले गगन के वितान पर प्रकृति ने जैसे अपनी सबसे खुबसूरत पेंटिंग की रचना कर डाली हो | अगर कही ईश्वर का अस्तित्व होगा तो अवश्य ही वह प्रकृति के इन खूबसूरत नजारों में ही होगा | मंदिर परिसर के चारों कोनों से भाग-भाग कर मैं मंत्रमुग्ध इन नजारों को अपने दिलो दिमाग, आँखों एवं कैमरे में कैद करता रहा | आज भी वहाँ का नजारा याद कर दिल बेचैन हो उठता है, ऐसा प्रतीत होता है कि जैसे मेरा जन्म इन्हीं नजारों को निहारने के लिए ही हुआ हो और इच्छा होती है कि भाग कर फिर से वही पहुँच जाऊँ |”


इसी प्रकार पुस्तक में गंगोत्री का वर्णन इस प्रकार किया हैं - “गंगोत्री का नजारा अविस्मरणीय था | गंगोत्री ग्लेशियर से उतरती पावनी माँ गंगा, जिनके दर्शन मात्र से समस्त पाप धुल जाते है | मै उनके उद्गम स्थल पर खड़ा अत्यंत रोमांचित था | माँ गंगा की उफनती लहरें, उछलती जलधारा की मचलती बूंदे, दूसरी तरफ ऊँचे-ऊँचे चीड़ से लदी पर्वत श्रंखला, दूर शांत स्निग्ध सूर्य की किरणों से चमकती बर्फ से ढकी मेखला, सेब के पेड़, दिव्य मंदिर और फैले हुये घाट इस पवित्रतम स्थल की रमणीयता में चार चाँद लगा रहे थे | लगभग ढाई हजार किलोमीटर की यात्रा करती माँ गंगा लाखों किलोमीटर के क्षेत्र को उर्वरा शक्ति प्रदान करती है | करोड़ों लोंगों की जीवनधारा माँ गंगे को नमन कर मै घंटो, घाट के किनारे पड़ी एक बेंच पर एकांत में बैठकर प्राकृतिक दृश्य के रूप में परमपिता से एकाकार होता रहा |”


पुस्तक में पगडंडियों पर भ्रमण के क्रम में पग-पग पर बिखरी खूबसूरती का यथार्थ वर्णन पाठकों को उन्हीं पगदंडियो पर लेजाकर देवभूमि के दर्शन कराता हैं | इन पगडंडियों की एक बानगी प्रस्तुत हैं- आगे लगभग दो किलोमीटर तक पुराना पक्का रोड़ है जो बरसात एवं ऊपर से मलबा आने से जगह-जगह से टूट गया है | एक किलोमीटर आगे बढ़ने पर आप एक घने जंगल में अपने को पायेंगे | चारों तरफ ऊँचे-ऊँचे ओक के वृक्ष, उस पर लिपटी सघन लतायें, झींगुरो की झन-झन की आवाजें, बीच-बीच में किसी पक्षी की कुहक और घनी पत्तियों से छनकर आती एवं अनेकानेक बिम्ब बनाती हुई सूर्य की किरणें इस पूरे वातावरण को अदभुत एवं रहस्यमयी बना देती हैं | ऐसे में संसार का सबसे रुखा व्यक्ति भी प्रकृति के इस रोमांस में रोमांचित हुए बिना नही रह सकता | प्रकृति सुन्दरता की हरित अभिव्यक्ति में कोई भी एक अप्रतिम शक्ति का स्मरण अनायास ही हो जाता है और नास्तिक व्यक्ति के भी मन में उस परम शक्ति के प्रति धन्यवाद एवं आस्था की छिपी प्रवृत्ति जागृत हो जाती है |


हिमालय से निकली सुरसरी माँ भारती के लालों का पोषण करती हैं| पूरा क्षेत्र नदियों, नालों, और झरनों से भरा हुआ हैं | मसूरी के पास स्थित झरिपानी झरने का एक दृश्य देखें - “झरने के शोर की शांति पूरे वातावरण में छाई हुई थी | मैं पास एक बड़े पत्थर पर बैठा बूंदों का गिरना देखता रहा | तेज प्रवाह से आती जल धार पर्वत के मुहाने तक आकर अनेकानेक बूंदों में बिखर जाती है | कुछ बूंदे समूह से अलग हो जातीं और निपट अकेले मस्ती में ऐसे नीचे आती जैसे इन्हें दुनिया के रस्मों-रवायतों से कुछ लेना देना नहीं हैं | अधिसंख्यक बूंदें समूह में एक तारतम्य में नीचे आती हुई एक मधुर संगीत की रचना कर रही थी | कुछ नन्हीं-नन्हीं बूंदे हवा में तैरती जाती और झरने के चारों तरफ ओक के पत्तों से छंकर आती श्वेत रश्मियों के साथ मिलकर इंद्रधनुष का निर्माण कर रही थी | | कुछ वही चट्टान पर चिपक जातीं और मज़े से फिसलती हुई नीचे आती | झरने की खूबसूरती में बूंदों का अस्तित्व कहाँ देख पाती है यह दुनिया | मैं नन्हीं बूंदों में खोया रहा और इनकी मनस्थिति से जुड़ने की कोशिश करता रहा |”


देवभूमि का एक समृद्ध इतिहास रहा हैं | उत्तराखंड मुख्यतः दो भागों में विभाजित हैं | पुस्तक में यहाँ के इतिहास का विस्तृत ब्योरा दिया गया हैं जिससे पाठक इस क्षेत्र का सम्पूर्ण परिचय प्राप्त कर सकेंगें | कुमायूं का एक वर्णन पुस्तक में इस प्रकार हैं – “सातवी सदी से ग्यारहवी सदी तक यहाँ कत्पुरी शासकों का शासन रहा | वासुदेव कत्पूरी ने इस वंश की स्थापना की एवं कार्तिकेयपूरा (अब बैजनाथ) इस वंश की राजधानी थी | अपने वैभव के चरम पर इस वंश का शासन नेपाल से लेकर अफगानिस्तान तक था | नेपाल के कंचनपुर जिले में ब्रह्मदेव मंडी की स्थापना ब्रह्मदेव नामक कत्पूरी शासक ने ही की थी | १२वी सदी में इस वंश का विघटन हो गया और चाँद शासकों ने इस क्षेत्र पर शासन किया | १५८१ में रूपचन्द्र नामक राजा ने पुनः सम्पूर्ण कुमायूँ क्षेत्र पर शासन स्थापित किया | १३वी – १४वी सदी में इस क्षेत्र पर आठ अलग अलग राजवंशो ने शासन किया | चाँद राजाओं ने चम्पावत को अपनी राजधानी बनाया और बाजबहादुर (१६३८-७८) इस वंश का सबसे प्रभावी राजा बना | बाजबहादुर ने अपने राज्य का विस्तार करते हुये गढ़वाल क्षेत्र पर भी आक्रमण कर दिया तथा तराई के इलाके सहित देहरादून तक को विस्तृत क्षेत्र को अपने राज्य में मिला लिया | भीमताल के पास अपने जनरल गोलू के नाम पर इन्होने गोलू देवता का मन्दिर बनवाया जिसकी इस क्षेत्र के लोगों में बहुत ही मान्यता हैं |”


पगडंडियाँ मन के कोमल तंतुओं को छूती हैं, गुदगुदाती हैं और एक रहस्यमयी आनंद का आस्वाद कराती हैं जिससे शब्द स्वतः ही जुड़ने लगते है और स्वर्गिक साहित्य का निर्माण करते हैं | पुस्तक में लेखक ने उत्तराखंड की साहित्यिक विरासत का भी विस्तृत वर्णन किया हैं | एक बानगी प्रस्तुत है- “प्रातः काल का कौसानी अपने वैभव के चरम पर होता है | अलसाई वृक्ष लताओं को जगाने वाली मंद-मंद बहती हवा दिनकर की सर्वदा सुखाय रश्मिययों के स्पर्श और नजदीक एवं स्पष्ट दिखते हिमशिखर का दर्शन करते व्यक्ति अपनी सुध-बुध ही खो देता है | मैं भी इस सुरम्य प्राकृति सुषमा का रसास्वादन अनन्त काल तक करता रहता अगर मुझे तैयार होने के लिए आवाज़ न दी गयी होती | यहाँ से नाग पर्वत की चोटियाँ स्पष्ट दिखाई देती है | इसके बाद हम तैयार होकर पंत म्युजियम देखने निकले | प्रकृति के सुकुमार कवि सुमित्रानंदन पंत के जन्म स्थली का दर्शन मेरे लिए किसी तीर्थ स्थल से कम नही था | यहाँ पंत जी के अनेकों हस्तलिखित पत्र, तश्वीरें और पांडुलिपियाँ सुरक्षित है | हरिवंशराय बच्चन के साथ उनकी कई तश्वीरें आकर्षण का केन्द्र हैं | कौसानी, अल्मोड़ा और प्रकृति की सुकुमारता का जो चित्रण सुमित्रानंदन पंत ने किया है वह अन्यंत्र दुर्लभ है | मेरा मन पंत जी की एक रचना अनायास ही गुनगुनाने लगा -


छोड़ द्रुमों की मृदु छाया तोड़ प्रकृति से भी माया बाले! तेरे बाल-जाल में कैसे उलझा दूँ लोचन? भूल अभी से इस जग को ! तज कर तरल तरंगों को इन्द्रधनुष के रंगों को तेरे भ्रू भ्रंगों से कैसे बिधवा दूँ निज मृग सा मन? भूल अभी से इस जग को ! “


इस प्रकार जय प्रकाश पाण्डेय द्वारा रचित यात्रा वृतांत “पगडंडी में पहाड़” पुस्तक मानव की सहज कोमल भावनाओं को जागृत करती है । हिमालय के सुरमई स्थलों से लेकर देवभूमि के इतिहास, धर्म, सभ्यता, संस्कृति, प्रकृति की खूबसूरती के साथ-साथ पर्वतीय अंचल के गांवों और यहाँ के भोले-भाले लोगों से परिचय कराती हैं | पुस्तक पढ़ने के क्रम में यदि आप अपना बैग तैयार कर इन पगडंडियों में भ्रमण करने को निकल पड़े तो कोई अतिश्योक्ति नही होगी ।


लेखक-परिचय


नाम- जय प्रकाश पाण्डेय

जन्म तिथि - 09 अप्रैल 1976

जन्म स्थान - भिलाई, जिला- दुर्ग , छत्तीसगढ़

निवासी- प्रतापगढ़, ( उ.प्र.)

पिता- श्री शारदा प्रसाद पांडेय

माता- श्रीमती विमला पांडेय

मोबाइल – 8826309605

ईमेल- jppandeyirps.gmail.com


अन्य प्रकाशित पुस्तके –

1. दरिया के दो पाट ( काव्य संग्रह - नील नारायण प्रकाशन, नई दिल्ली)

2. दूर नीड़ के पक्षी ( कहानी संग्रह – प्रभात प्रकाशन, नई दिल्ली )


लेखन विधा - कविता, कहानी, यात्रा-वृतांत, सम-सामयिक विषयों पर संपादकीय लेख


09 अप्रैल 1976 को छत्तीसगढ़ के भिलाई में जन्में श्री जय प्रकाश पांडेय भारतीय रेलवे कार्मिक सेवा के अधिकारी है । लखनऊ, मुरादाबाद, फिरोजपुर रेलवे मंडल में विभिन्न प्रशासनिक पदों पर रहने के अलावा मसूरी में स्थित प्रतिष्ठित देश के सबसे पुराने और सरकारी क्षेत्र सर्वोत्तम आवासीय विद्यालय, ओकग्रोव स्कूल में प्रिंसीपल रह चुके है । सम्प्रति शिक्षा मंत्रालय, भारत सरकार , नई दिल्ली में निदेशक, स्कूल शिक्षा के पद पर कार्यरत है । वे कविता, कहानी, यात्रा-वृतांत, शिक्षा एवम सम-सामयिक विषयों पर संपादकीय लेख जैसे लेखन विधा में नियमित कर्मरत है । विभिन्न कवि सम्मेलनों , दूरदर्शन एवम आकाशवाणी से नियमित काव्य पाठ के साथ अनेक पत्र-पत्रिकाओं में लिखते रहते है । दूरदर्शन पटना, आकाशवाणी नजीबाबाद , देहारादून, एवं आल इंडिया रेडियों दिल्ली से नियमित काव्य पाठ करते रहते हैं | लेखक साक्षा के साथ साथ शिक्षाविद भी है एवं शिक्षा के क्षेत्र में निरंतर प्रयासरत हैं | शिक्षा, प्रशासन एवं सामाजिक बिषयों पर ट्रिबुन, दैनिक जागरण, गढ़वाल पोस्ट एवं दैनिक भाष्कर सहित अनेक पत्र-पत्रिकायों में नियमित लेखन करते रहते हैं |


साहित्यिक उपलब्धियां -


1. अखिल भारतीय रेल हिंदी पुरस्कार 2012

2. डॉ. भीमराव अंबेडकर साहित्यिक सम्मान 2016

3. आगमन साहित्यिक सम्मान 2016

4. मैथिली शरण गुप्त पुरस्कार 2017 (रेल मंत्रालय द्वारा कविता संग्रह के लिए)

जय प्रकाश पाण्डेय

आई आर पी एस

निदेशक, स्कूली शिक्षा

शिक्षा मंत्रालय, भारत सरकार

नई दिल्ली

मो. – 8826309605

ईमेल- jppandeyirps.gmail.com

138 views0 comments

Comments


REC- VoW Book Awards 2024

bottom of page